-->
हिंदी हमारे लिए प्राण वायु के सदृश्य है जो हमें हर पल स्वतंत्र भारतीय होने का एहसास दिलाती है - डॉक्टर गौरी अग्रवाल

हिंदी हमारे लिए प्राण वायु के सदृश्य है जो हमें हर पल स्वतंत्र भारतीय होने का एहसास दिलाती है - डॉक्टर गौरी अग्रवाल

दीपक पुड़ो ब्यूरो प्रमुख छत्तीसगढ़- डॉक्टर राधाबाई शासकीय नवीन कन्या महाविद्यालय रायपुर में  हिंदी दिवस के उपलक्ष में जारी सात दिवसीय हिंदी कार्यशाला के पंचम एवं   षष्ठम दिवस पर प्रसिद्ध महिला कहानीकार उषा प्रियंवदा की वापसी और मालती जोशी जी की वसीयत इन दोनों कहानियों पर प्रतिभागियों ने समीक्षा अभिनय व प्रश्नोत्तर को लेकर अपनी प्रतिभा से दर्शकों को अभिभूत कर दिखाया वापसी कहानी के रंग मंच सज्जा और संवाद अदायगी से दिव्या गेड़ेकर, काजल रहंगडाले, दीप्ति साहू,  अदिति साहू,  शिवालिका शर्मा, चुनमुन देवांगन, सोनिया देवांगन, कुसुम देवांगन,हेमा साहू इंद्राणी ने और वसीयत कहानी का अप्रतिम अभिनय एवं कुशल संचालन से प्रियंका वैष्णव, ममता सोनवानी, सानिया बानो,अख्तरी बानो,तिजेश्वरी साहू, किरण गावंडे, भूमिका यादव, प्रियांशु वैष्णव व प्रिया ठाकुर ने दर्शकों से वाहवाही एवं तालियों की सु मधुर वनी लूटने में कोई कसर नहीं छोड़ी l 
तदोपरांत इस कार्यशाला में सक्रिय भूमिका की कुशल  निर्वाह के लिए भूतपूर्व छात्राओं कुमारी भारती साहू, रोशनी साहू, प्रियंका वैष्णव, प्रिया ठाकुर एवं तिजेश्वरी साहू के नवाचार के तहत  महाविद्यालय के प्रतिभागियों के द्वारा स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया | संयोजक डॉक्टर गौरी अग्रवाल ने कहा कि आज 14 सितंबर हम सब हिंदी दिवस को उत्सव के रूप में मना रहे हैं परंतु हम हिंदी भाषा भाषी के लिए प्रतिदिन हिंदी दिवस है हिंदी हमारे लिए प्राण वायु के सदृश्य है जो हमें हर पल स्वतंत्र भारतीय होने का एहसास दिलाती है हमें जीवंत रखी है |तथा आपस में मानवीय बने रहने का संदेश देती  है | इसी भाव को लेकर आज की कार्यशाला में  अभिव्यक्त "वापसी"कहानी पारिवारिक विघटन रुकने का अचूक संदेश देती है और वसीयत कहानी संबंधों को सहेजने की वसीयत है आज टेक्नोलॉजी के युग में  भौतिकता की अंधी दौड़ में पूरा पूरा मानव समाज शामिल है ऐसे विपरीत एवं विकट समय में हिंदी की यह यह कहानियां मानव समाज के नब्ज पर हाथ रखती है कार्यशाला में अध्यापक मधु कटारिया, डॉक्टर ज्योति अग्रवाल प्रधानाध्यापक दीपक वर्मा प्रतिभागियों के अभिभावक एवं बड़ी संख्या में महाविद्यालयींन  छात्राएं उपस्थित रही |
                         

0 Response to "हिंदी हमारे लिए प्राण वायु के सदृश्य है जो हमें हर पल स्वतंत्र भारतीय होने का एहसास दिलाती है - डॉक्टर गौरी अग्रवाल"

एक टिप्पणी भेजें