-->
मां आनंदिनी फाउंडेशन पारिवारिक संस्था द्वारा उत्सव स्थापना दिवस के अवसर पर लता मंगेशकर को किया याद

मां आनंदिनी फाउंडेशन पारिवारिक संस्था द्वारा उत्सव स्थापना दिवस के अवसर पर लता मंगेशकर को किया याद

 

अमृतेश्वर सिंह रायपुर- मां आनंदिनी फाउंडेशन पारिवारिक संस्था द्वारा उत्सव स्थापना दिवस के अवसर पर लता मंगेशकर की याद में संगीत संध्या का आयोजन  5 जुलाई दिन मंगलवार को वृंदावन हाल सिविल लाइन में शाम 4 बजे से किया गया  है। संस्था की संस्थापिका नंदिनी मां ने बताया कि इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पद्मश्री भजन सम्राट श्री मदन चौहान जी, विशेष अतिथि दूरदर्शन एवं आकाशवाणी कलाकार मानस गायन में ख्याति प्राप्त श्री राम प्रसाद नेगी, विशेष अतिथि डॉ शुषमा मिश्रा , कराओके जगत के गुरु घनश्याम शर्मा ने अपनी बेहतरीन प्रस्तुति दी । जिसमें ये कौन आया रौशन हो गई महफ़िल किसके नाम की...आगे भी जाने न तू....  वैष्णवी तिवारी अलबेला सजन आया....मोहे रंग दो ...देब्यानी मुखर्जी छोटो सो बालम...तेरी आँखों के सिवा.... आशिया सोनू हुश्न पहाड़ों का....आज फिर जीने की तमन्ना है...फिर छिड़ी रात बात फूलों की....बरखा बहार आई....

तनु बेदी द्वारा है अपना दिल तो आवारा ना जाने किस पे आएगा और बाबू जी धीरे चलना गीत की प्रस्तुति दी जाएगी इसी तरह रश्मि  फ़तलानी द्वारा रहे ना रहे हम और यू तुम मुझे भूलना ना पाओगे,  किरण पिल्लई द्वारा घर आजा धिर आए बदरिया और पियातोसे नैना लागे रे, हरजीत सैंडो द्वारा नैनो में बदरा छाए और ओ सजना  बरखा बहार आई तथा नंदिनी जी द्वारा ये कोन आया रोशन हो गई महफिल किसके नाम से और कभी आर कभी पार लगा तीरे नजर, राजनांदगांव से आई तुशी कोटक कजरा मोहब्बत वाला और दिल है छोटा सा छोटी सी आशा । जैसे गीतों की प्रस्तुति दी । 

माँ आनंदिनी फाउंडेशन की अध्य्क्ष डॉ वंदना ठाकुर ने बताया कि संस्था द्वारा सामाजिक-पारिवारिक रिश्तों को बेहतर बनाने की दिशा में काम किया जाता है। महिलाओं को संस्कारित बनाने और अपने अधिकारों के प्रति सजग बनाने के लिए काम किया जा रहा है।

0 Response to "मां आनंदिनी फाउंडेशन पारिवारिक संस्था द्वारा उत्सव स्थापना दिवस के अवसर पर लता मंगेशकर को किया याद "

एक टिप्पणी भेजें