-->
भानुप्रतापपुर में दूसरे दिन भी जारी रहा मध्यान्ह भोजन रसोईया कल्याण संघ का हड़ताल अपनी पांच सूत्री मांगों पर डटे

भानुप्रतापपुर में दूसरे दिन भी जारी रहा मध्यान्ह भोजन रसोईया कल्याण संघ का हड़ताल अपनी पांच सूत्री मांगों पर डटे

संतोष बाजपेयी ब्यूरो प्रमुख कांकेर- भानुप्रतापपुर में दूसरा दिन भी जारी रहा रसोईया का हड़ताल जिसे आज नवीन शिक्षक संघ प्रदेश उपाध्यक्ष प्रकाश कांगे ने अपना समर्थन दिया।
अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन के हड़ताल पर जाने के बाद मंगलवार से छत्तीसगढ़ मध्यान्ह भोजन रसोइया कल्याण संघ भी कलेक्टर दर से मानदेय देने की मांग सहित पांच सूत्रीय मांगों को लेकर पांच दिवसीय हड़ताल पर बैठ गया है। रसोइयों के हड़ताल पर चले जाने पर अब शासकीय प्राथमिक माध्यमिक स्कूलों में पढ़ाई ठप होने के साथ बच्चों को भोजन भी नहीं मिलेगा।

 शिक्षकों के साथ साथ मध्यान्ह भोजन रसोईया संघ भी हड़ताल पर है, जिससे विकासखण्ड के क‌ई स्कूलो में  ताला लगने की नौबत आ गई है । एक तरफ शिक्षक संघ केन्द्र के समान देयक, महंगाई भत्ता आदि मांग को लेकर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर बैठे है और वही मध्यान्ह भोजन रसोईया संघ हाई कोर्ट के आदेशानुसार कलेक्टर दर पर मानदेय बढ़ाने कि मांग को लेकर हड़ताल पर बैठे हैं।


संघ के प्रवक्ताओं ने बताया कि चुनाव के पूर्व कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में मध्यान्ह भोजन रसोइयों को कलेक्टर दर से मानदेय देने सहित कई अन्य वादे किए थे, परन्तु इतना समय बीत जाने के बाद भी ये वादे पूरे नहीं किए गए हैं। जिससे कि रसोइयों में आक्रोश व्याप्त है, और वो खुद को छला हुआ महसूस कर रहे हैं। और इसी वजह से हड़ताल जैसा कदम उठाने को मजबूर हो गए हैं। 

उन्होंने आगे बताया कि मध्यान भोजन पकाने वह बच्चों को खिलाने के लिए हम राशियों को नियुक्त किया गया है इन कामों में पूरा दिन निकल जाता है रसोईया का कार्य पूर्ण कालीन 6 घंटे का होने के बावजूद न तो शासकीय नियमित कर्मचारी माना जाता है और ना ही न्यूनतम वेतन मिलता है फिलहाल रसोइयों का मानदेय 15 सौ रुपए दिया जा रहा है शासन द्वारा भोजन पकाने की कार्य को महज डेढ़ घंटे का माना जा रहा है जबकि इतने समय में तो पानी भी गरम नहीं हो पाता है रसोईया संघ ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से निवेदन किया है कि रसोइयों को प्रतिमाह ₹9180 मानदेय दिया जाए।


 

0 Response to "भानुप्रतापपुर में दूसरे दिन भी जारी रहा मध्यान्ह भोजन रसोईया कल्याण संघ का हड़ताल अपनी पांच सूत्री मांगों पर डटे"

एक टिप्पणी भेजें