-->
श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय में हुआ प्रथम दीक्षांत समारोह, विश्वविद्यालय ने पद्म विभूषण,पदम् श्री और रिटायर्ड जस्टिस  को मानद उपाधि से किया सम्मानित, डिग्री पाकर खिले छात्रों के चेहरे...

श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय में हुआ प्रथम दीक्षांत समारोह, विश्वविद्यालय ने पद्म विभूषण,पदम् श्री और रिटायर्ड जस्टिस को मानद उपाधि से किया सम्मानित, डिग्री पाकर खिले छात्रों के चेहरे...

 

  अमृतेश्वर सिंह रायपुर- श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय में 1 जुलाई  शुक्रवार को प्रथम दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया । दीक्षांत समारोह में छत्तीसगढ़ प्रदेश  की महामहिम राज्यपाल एवं विश्वविद्यालय की कुलाध्यक्ष सुश्री अनुसुइया उइके शामिल हुई। प्रथम दीक्षांत समारोह श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री रविशंकर महाराज जी के आशीर्वाद से विश्वविद्यालय परिसर के गोविंदा कल्याण मण्डपम में आयोजित किया गया।  


दीक्षांत समारोह में मुख्य अतिथि केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार, विशिष्ट अतिथि केंद्रीय राज्य मंत्री खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय एवं जल शक्ति विभाग प्रहलाद सिंह पटेल उपस्थित रहे। साथ ही विशेष अतिथि विधानसभा अध्यक्ष चरण दास महंत ,खाद्य योजना एवं संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, स्कूल शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम, भिण्ड सांसद संध्या राय, रायपुर सांसद सुनील कुमार सोनी शामिल हुए। 

विश्वविद्यालय द्वारा प्रथम दीक्षांत समारोह में पद्म विभूषण डॉ. के कस्तूरीरंगन, पदम् श्री वैद्य राजेश कोटेचा, न्यायधीश (सेनानिवृत्त) श्री अशोक भूषण, पद्म विभूषण डॉ. तीजन बाई को मानद उपाधि प्रदान की गई। 

सभा को संबोधित करते हुए महामहिम राज्यपाल ने कहा की,श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में शामिल होने पर मुझे अत्यधिक आनंद की अनुभूति हो रही है। निश्चित ही गुरुकुल परंपरा को आत्मसात करते हुए यह विश्वविद्यालय आधुनिक ज्ञान की तरफ अग्रसर है। इस विश्वविद्यालय का सुरम्य नैसर्गिक एवं आध्यात्मिक वातावरण यहाँ अध्ययन एवं अध्यापन का एक बेहतर वातावरण निर्मित करता है। इस प्राकृतिक और आध्यात्मिक वातावरण में दीक्षित होकर निकले विद्यार्थियों को मेरी ओर से बहुत-बहुत बधाई एवं अनेक शुभकामनाएं। आज दीक्षा उपाधि पाने वाले सभी विद्यार्थियों से मेरा आग्रह है कि वे देश के विकास में अपनी सक्रिय भागीदारी का निर्वहन करते हुए अपना, अपने परिवार एवं अपने गुरुजनों का नाम रोशन करें, और साथ ही ये सत्य के मार्ग पर चलते हुए यश और प्रतिष्ठा अर्जित करें।


वही मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार ने सभा मे उपस्थित न हो पाने पर अपना वीडियो सन्देश देते हुए कहा कि, श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय रायपुर के लिए आज का यह प्रथम दीक्षान्त समारोह बहुत ही महत्वपूर्ण आयोजन है। इस आयोजन के माध्यम से यह विश्वविद्यालय आज शिक्षा जगत में अपनी प्रतिभा एवं प्रतिष्ठा का मंगल शंखनाद कर रहा है। दीक्षान्त समारोह का यह क्षण पुरषार्थ से परमार्थ की साधना का साक्षी बनने जा रहा है। अनंत विभूषित श्री रविशंकर जी  महाराज श्री रावतपुरा सरकार की लोक कल्याण की भावना का बीजरूप संकल्प आज साकार रूप धारण करने जा रहा है। आज इस विश्वविद्यालय के आचार्यों एवं विद्यार्थियों की शाश्वत  साधना फलीभूत, समलकृत एवं समादृत होने जा रही है। आज के इस दीक्षांत समारोह में उन प्रतिभाओं को सम्मानित किया जा रहा है, जिन्होंने अपने प्रखर पुरुषार्य से सफलता के नित नवीन कीर्तिमान स्थापित किये है आज का यह भव्य दीक्षांत समारोह पुरस्कृत हो रहे विद्यार्थियों के परिश्रम, प्रतिभा एवं पुरुषार्थ को विश्व पटल पर स्थापित करने का माध्यम है।


श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री रविशंकर महाराज जी ने कहा की, प्रथम दीक्षांत समारोह के अवसर पर मंच में आसीन सम्माननीय अतिथियों, विश्वविद्यालय परिवार के सदस्यों, उपाधियां लेने वाले और वर्तमान में अध्ययन कर रहे विद्यार्थियों को देख कर मन गदगद हो गया है। एक ऐसा भाव उमड़ रहा है जैसे अपने परिवार के समस्त सदस्यों को पाकर एक  माँ  भाव अभिभूत हो जाती है। इस विश्वविद्यालय की स्थापना 2018 में हुई और इसकी स्थापना का उद्देश्य शिक्षा और विद्या को साथ लेकर एक ऐसा वातावरण  बनाना था जहां विद्यार्थी तकनीकी  शिक्षा को सीखे, विज्ञान को समझें, आधुनिक विषयों को भी जाने साथ ही साथ धर्म, संस्कृति, मानवता और अध्यात्म को भी अपने जीवन में स्थान दे। विद्यार्थी अपने जीवन में आधुनिकता को तो लाए साथ ही भारतीय संस्कृति को भी न भूले। यही इस विश्वविद्यालय की स्थापना का उद्देश्य रहा है…

0 Response to "श्री रावतपुरा सरकार विश्वविद्यालय में हुआ प्रथम दीक्षांत समारोह, विश्वविद्यालय ने पद्म विभूषण,पदम् श्री और रिटायर्ड जस्टिस को मानद उपाधि से किया सम्मानित, डिग्री पाकर खिले छात्रों के चेहरे..."

एक टिप्पणी भेजें