-->
डुमरपानी गांव में सास ने समाज के लिए एक नई मिसाल किया पेश, अपनी विधवा बहू को रीति रिवाज से कराया पुनर्विवाह

डुमरपानी गांव में सास ने समाज के लिए एक नई मिसाल किया पेश, अपनी विधवा बहू को रीति रिवाज से कराया पुनर्विवाह

 

मनीराम सिन्हा नरहरपुर- छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले से एक अनोखी खबर सामने आई है जिसे सुन आप भी कुछ समय के लिए हैरान रह जाएंगे।आपने अक्सर सुना होगा सास - ससुर अपने बहु को प्रताड़ित करते है , परेशान करके उसके साथ गलत व्यवहार करते हैं लेकिन कांकेर जिले के डुमरपानी गांव में सास ने समाज के लिए एक नई मिसाल पेश की है। अपनी विधवा बहू को रीति रिवाज से उसका पुनर्विवाह कराया है।

डंडसेना कलार समाज कांकेर छत्तीसगढ़ समाज को नई दिशा दिखाने वाले शिक्षक श्रीकोमलसिन्हा के प्रयास से कृतिलता सिन्हा का विवाह  कांकेर जिला पंचायत के पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष एवं वर्तमान में जनपद पंचायत नरहरपुर सदस्य सभापति यमुनादेवीभीषम सिन्हा के यहां विवाह होकर उनके छोटे पुत्र गजेंद्र सिन्हा के लिए दांपत्य सूत्र में 27 अप्रैल 2016 को बंधी थी। दांपत्य जीवन बहुत ही सुंदर सुखमय चल रहा था कि प्रकृति के आगे सभी नतमस्तक है। अटैक आने के कारण इनके पति गजेंद्र (गज्जू)का देहावसान हो गया। कम उम्र में बहू विधवा हो गई। जिस पर स्कुल आते जाते कोमल सिन्हा जेपरा वासी की नजर पड़ी। जिनके माध्यम से समाज सेवा को लेकर विवाह योग्य युवक-युवतियों के 8 व्हाट्सएप ग्रुप एवं 1टेलीग्राम ग्रुप फेसबुक एवं 1नया ग्रुप विधवा/विधुर/ परित्यक्ता पुनर्विवाह ग्रुप का निर्माण कर समाज को सेवा अनवरत जारी रखा है। शिक्षक द्वारा भिलाई निवासी श्रीमान दुर्गेश कुमार सिन्हा बीएसपी कर्मचारी जिनकी धर्मपत्नी आदर्श शिक्षिका  मायादेवी सिन्हा कैंसर से पीड़ित होने के कारण प्रकृति के आगे नतमस्तक होना पड़ा। जिनका मुलाकात शिक्षक कोमल सिन्हा जी के साथ हुआ दोनों पक्षों के साथ परिचय विचारों का आदान प्रदान हुआ जिसमें प्रमुख रुप से  यमुना देवी सिन्हा का बहुत ही सुलझे हुए विचार उभर कर आया, बहू को बेटी के रूप में विवाह कर विदा करने का  विवाह प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए दिनांक  03/07/22 दोपहर रविवार को बिना आडंबर के विधिवत नागेश्वर मंदिर धमतरी में पंडित शर्मा जी  मंत्रों के साथ चिरंजीवी श्री दुर्गेश सिन्हा प्रगति नगर भिलाई निवासी द्वारा सौ.कां.कृतिलता सिन्हा को चूड़ी सिंदूर मंगलसूत्र पहना कर भगवान शिव का परिक्रमा कर विवाह संपन्न करवाया गया समाज को एक नई दिशा यमुना देवी सिन्हा एवं इनके पूर्व मायके पक्ष से ससुराल पक्ष के द्वारा बेटी कृतिलता को आदर्श विवाह कर बहू के जगह बेटी के रूप में विदाई किया गया विदाई के समय जितने भी थे आंसुओं से सरोबोर थे बेटी की मंगल कामना शुभ आशीर्वाद प्रदान करने वालो में कृतिलता के जेठजी दिनेश सिन्हा एवं उनकी धर्मपत्नी सगे बड़े भैया भाभी नए रिश्ते के रूप में बहन/बेटी को आगे की सुखद दांपत्य जीवन जीने के लिए सहर्ष विदा किया गया । श्रेय नागेश्वर मंदिर में सुविधा उपलब्ध कराने हेतु दीपक राय कोमल सिन्हा के साथ श्रीमती यमुना देवी सिन्हा कृतिलता के पूर्व मायके पक्ष के माता-पिता भाई-बहन सगे संबंधियों और चिरंजीवी के भिलाई निवासियों को जाता है।

0 Response to "डुमरपानी गांव में सास ने समाज के लिए एक नई मिसाल किया पेश, अपनी विधवा बहू को रीति रिवाज से कराया पुनर्विवाह"

एक टिप्पणी भेजें