-->
कांकेर कलेक्टर ने ली कृषि विभाग एवं अन्य समवर्गीय विभागीय अधिकारियों की बैठक, धान के बदले अन्य फसलों को बढ़ावा देने के निर्देश

कांकेर कलेक्टर ने ली कृषि विभाग एवं अन्य समवर्गीय विभागीय अधिकारियों की बैठक, धान के बदले अन्य फसलों को बढ़ावा देने के निर्देश

 

दीपक पुड़ो ब्यूरो प्रमुख छत्तीसगढ़- कलेक्टर श्री चन्दन कुमार ने कृषि विभाग एवं अन्य समवर्गीय विभागों उद्यानिकी, मछली पालन, पशुधन विकास विभाग एवं सहकारिता विभाग के अधिकारियों एवं मैदानी कर्मचारियों की बैठक लेकर गोधन न्याय योजनांतर्गत गौठानों में गोबर की खरीदी एवं वर्मी कम्पोस्ट का उत्पादन, मल्टी एक्टीविटी गौठान बनाने एवं आवश्यकतानुसार वर्मी टांका का निर्माण, धान के बदले अन्य फसलों को बढ़ावा, प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजनांतर्गत ड्रीप एवं स्प्रिंकलर लक्ष्य के पूर्ति, किसान क्रेडिट कार्ड एवं किसानों का ई-केवायसी कार्य की विस्तृत समीक्षा किया एवं संबंधित विभागीय अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

गोधन न्याय योजनांतर्गत गौठानों में कम मात्रा में गोबर खरीदी होने पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्हांंने गोबर खरीदी को बढ़ाने के लिए निर्देशित किया। इसके लिए सभी पशुपालकों का पंजीयन कराने एवं पशुओं को गौठान में लाना सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया, साथ ही गौठान समिति की बैठक लेने के निर्देश भी दिये गये। खरीदे गये गोबर से औसत से कम मात्रा में वर्मी कम्पोस्ट का उत्पादन होने पर भी उन्होंने अप्रसन्नता व्यक्त किया तथा इसमें रेसियो का पालन करने कहा गया। गौठानों में अतिरिक्त वर्मी टांका निर्माण के लिए जानकारी तत्काल उपलब्ध कराने तथा उसकी स्वीकृति प्रदान करने के लिए भी निर्देश दिये गये। गौठानों को मल्टी एक्टीविटी सेन्टरों के रूप में विकसित करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि प्रत्येक गौठान में कम से कम पांच प्रकार के विभिन्न गतिविधियों का संचालन किया जावे। स्वावलंबी गौठानों की जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश भी उनके द्वारा दिये गये।

       कलेक्टर श्री चन्दन कुमार ने जिले में धान के बदले अन्य फसलों की खेती को बढ़ावा देने के लिए कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि बड़े किसान जिनके पास सिंचाई के साधन हों, उन्हें धान के बदले अन्य फसलों की खेती शुरू करने के लिए प्रोत्साहित किया जावे। बड़े किसान अपने एक-दो एकड़ कृषि भूमि में धान के बदले अन्य फसलों की खेती प्रारंभ कर सकते हैं। ऐसे समस्त किसानों की सूची बनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने तथा उनकी मैपिंग कर जिला कार्यालय को उपलब्ध कराने के लिए निर्देशित किया गया। धान के बदले अन्य लाभकारी फसल की खेती करने वाले किसानों को जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के माध्यम से ऋण सुविधा भी उपलब्ध कराई जायेगी। राजीव गांधी किसान न्याय योजनांतर्गत धान के बदले अन्य लाभकारी फसल लेने पर उन्हें प्रति एकड़ 10 हजार रूपये की इनपुट सब्सिडी भी दी जायेगी। कलेक्टर श्री चन्दन कुमार ने जिले में कोदो-मड़िया (रागी) का रकबा बढ़ाने के लिए भी कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया। सभी किसानों का किसान क्रेडिट कार्ड बनाने तथा प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजनांतर्गत ड्रीप एवं स्प्रिंकलर के लक्ष्य पूर्ति करने और किसानों का ई-केवायसी कराने के लिए भी निर्देशित किया गया। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुमीत अग्रवाल, कृषि विभाग के उप संचालक एन.के. नागेश, उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं आर.आर. मरकाम, पशुधन विकास विभाग के उप संचालक डॉ. सत्यम मित्रा, सहायक संचालक मछली पालन एम.एल. नेताम, सहायक संचालक उद्यानिकी व्ही.के. गौतम, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के नोडल अधिकारी एस.के. कन्नौजिया सहित सभी आरईओ, एसएडीओ एवं एसडीओ कृषि भी मौजूद थे।

0 Response to "कांकेर कलेक्टर ने ली कृषि विभाग एवं अन्य समवर्गीय विभागीय अधिकारियों की बैठक, धान के बदले अन्य फसलों को बढ़ावा देने के निर्देश"

एक टिप्पणी भेजें