-->
कांकेर कलेक्टर के.एल. चौहान की नजर जिले पर बनी हुई, आज शाम को राहत शिविर में रह - रहे श्रमिकों से बातचीत कर उन्हें उपलब्ध सुविधाओं एवं भोजन इत्यादि संबंध में मिलकर जानकारी ली, तो वही श्रमिकों ने व्यवस्था पर जताया संतुष्टि

कांकेर कलेक्टर के.एल. चौहान की नजर जिले पर बनी हुई, आज शाम को राहत शिविर में रह - रहे श्रमिकों से बातचीत कर उन्हें उपलब्ध सुविधाओं एवं भोजन इत्यादि संबंध में मिलकर जानकारी ली, तो वही श्रमिकों ने व्यवस्था पर जताया संतुष्टि

दीपक कुमार पुड़ो@
कांकेर - कांकेर कलेक्टर के.एल. चौहान की नजर जिले पर बनी हुई, नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव एवं प्रभावी नियंत्रण हेतु सम्पूर्ण जिले में धारा-144 (1) प्रभावी होने एवं लॉकडाउन होने के कारण बेघर-बार व्यक्तियों तथा प्रवासी श्रमिकों को भोजन, कपड़े एवं स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए जिला मुख्यालय कांकेर के ईमलीपारा में अस्थाई राहत शिविर का संचालन किया जा रहा है, जिसका अवलोकन कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी के.एल. चौहान द्वारा आज शाम को किया गया तथा राहत शिविर में रह - रहे श्रमिकों से बातचीत कर उन्हें उपलब्ध सुविधाओं एवं भोजन इत्यादि के संबंध में जानकारी ली।
श्रमिकों ने जिला प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्था पर संतुष्टि जताया। कलेक्टर द्वारा निरीक्षण के समय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जे.एल. उईके, आदिवासी विकास विभाग के उपायुक्त विवेक दलेला, तहसीलदार कांकेर मनोज मरकाम तथा नायब तहसीलदार गैंदलाल साहू भी मौजूद थे।उल्लेखनीय है कि ईमलीपारा स्थित निर्माणाधीन छात्रावास में अस्थाई राहत षिविर बनाया गया है, जहां पर कवर्धा, बिलासपुर, बेमेतरा, मुंगेली इत्यादि जिलों के श्रमिकों को रखा गया है तथा उनके खाने-पीने इत्यादि की व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा की जा रही है।

0 Response to "कांकेर कलेक्टर के.एल. चौहान की नजर जिले पर बनी हुई, आज शाम को राहत शिविर में रह - रहे श्रमिकों से बातचीत कर उन्हें उपलब्ध सुविधाओं एवं भोजन इत्यादि संबंध में मिलकर जानकारी ली, तो वही श्रमिकों ने व्यवस्था पर जताया संतुष्टि"

एक टिप्पणी भेजें